Akash

Akash

इस ब्लॉग की

कृप्या इस ब्लॉग की प्रविष्टियों को महसूस करें तथा अपना मंतब्य जरूर लिखें |

Tuesday, April 12, 2011

का कहीं देशवा के हाल भईया कहलो ना जाता ?

ये कविता भोजपुरी में खासकर बिहार और झारखण्ड में हो रही परीक्छा को लेकर लिखी गई है |
इन दिनों पुरे देश में सरकारी स्कूल और कालेजों की परीक्छा जोर शोर से हो रही है मेरे मन में एक विचार आया जो मैंने लिख दिया अब आप भी अपना बहुमूल्य विचार दे ही दीजिये| 
जरा सोंचिये पीछे की खिड़की के बारे में...

का कहीं.. का कहीं देशवा के हाल भईया कहलो ना जाता ?
एम. ए. बी. ए. पास कइलन तनको ना बुझाता
का कहीं.. का कहीं देशवा के हाल भईया कहलो ना जाता ?

चीट पर फिट  होके सीट पर लिखाता
मैट्रिक, इंटर क्लास के परीक्छा दियाता
एगो जालन लिखे दुगो लागल जालन पीछे
का कहीं.. का कहीं देशवा के हाल भईया कहलो ना जाता ?

घुश चपरासी से पुलिस के पैसा दियाता
एकरा पर सरकार के तनको न बुझाता
का कहीं.. का कहीं देशवा के हाल भईया कहलो ना जाता ?

टीचर ट्रेनिंग के लोग मास्टर कहता
तेरह दिन में तिन दिन पढावे लोगन जाता
का कहीं.. का कहीं देशवा के हाल भईया कहलो ना जाता ?

रोज-रोज नया-नया स्कूल, कॉलेज खुलल जाता
एकरा में पढावे वाला भूखे मरल जाता
का कहीं.. का कहीं देशवा के हाल भईया कहलो ना जाता ?

25 comments:

  1. घुश चपरासी से पुलिस के पैसा दियाता
    एकरा पर सरकार के तनको न बुझाता

    -वाह जी, वैसे यथार्थ वर्णन है...

    ReplyDelete
  2. टीचर ट्रेनिंग के लोग मास्टर कहता
    तेरह दिन में तिन दिन पढावे लोगन जाता
    का कहीं.. का कहीं देशवा के हाल भईया कहलो ना जाता ?
    रोज-रोज नया-नया स्कूल, कॉलेज खुलल जाता
    एकरा में पढावे वाला भूखे मरल जाता
    का कहीं.. का कहीं देशवा के हाल भईया कहलो ना जाता ?

    बहुत बढ़िया ...सटीक और सच्ची पंक्तियाँ रची हैं....

    ReplyDelete
  3. देश की शिक्षा प्रणाली का सही खुलासा किया है ।
    ब्लोगिंग में आपका स्वागत है ।

    ReplyDelete
  4. desh kaa shi haal byaan kiya hai. akhtar khan akela kota rajsthan

    ReplyDelete
  5. Nice post.
    @ आकाश जी ! आपने 'ब्लॉग की ख़बरें' से जुड़ने का तरीक़ा पूछा है ।
    इसके लिए आप
    eshvani@gmail.com
    पर अपनी ईमेल आईडी भेज दीजिए ।
    शुक्रिया !
    Welcome.

    ReplyDelete
  6. aakash bahut sajeev prastuti kee hai aapne.aaj ke blogar aapse prerna lekar sachchai ko ujagar karen to desh me kafi jagrookta lai ja sakti hai.
    aapki mummy ab kaisee hain?unhe v tumko hamari aur se ram navmi kee hardik shubhkamnayen.ve jald hi swasth hokar aapke sath ham blogars se milen to hame bahut khushi hogi.

    ReplyDelete
  7. bahut sahi bate kahi hain aapne abhivyakti sangrahniy hai.

    ReplyDelete
  8. देसवा के हाल कइसे जाई कहल
    जब भोंट देबे घड़ी बुद्धि भुलाइल जाला
    इहो सुनतानी कि उहे बेचैन बा
    जवना के लाभ अबहीले मिलल ना....

    ReplyDelete
  9. यथार्थ का सही चित्रण किया है। नक़ल करने वाले भाँती-भाँती की जुगत लगा ही लेते हैं। बहुत प्यारी कविता।

    ReplyDelete
  10. रोज-रोज नया-नया स्कूल, कॉलेज खुलल जाता
    एकरा में पढावे वाला भूखे मरल जाता
    का कहीं.. का कहीं देशवा के हाल भईया कहलो ना जाता ?bahut hi badhiya .

    ReplyDelete
  11. सच्चाई बताने से दोस्त भी दुश्मन बन सकते है।
    भाई,
    इसी 2 मार्च को आपके शहर में विराजमान थे।
    हम इलाहाबाद से काशी की पदयात्रा पर थे,

    ReplyDelete
  12. एकरा में पढावे वाला भूखे मरल जाता
    का कहीं.. का कहीं देशवा के हाल भईया कहलो ना जाता ?

    बहुत बढ़िया ...सटीक और सच्ची पंक्तियाँ

    ReplyDelete
  13. यथार्थ का सही चित्रण, बहुत बढ़िया|

    ReplyDelete
  14. ‘देशवा के हाल भईया’....सच्चाई बयान करती सुंदर रचना के लिए बधाई....

    ReplyDelete
  15. Bahute badhiya likhle baani...aapka nahi hai kono saani...

    ReplyDelete
  16. रोज-रोज नया-नया स्कूल, कॉलेज खुलल जाता
    एकरा में पढावे वाला भूखे मरल जाता
    बहुत सुंदर सार्थक विवेचन किया
    http://www.avaneesh99.blogspot.com/

    ReplyDelete
  17. चीट पर फिट होके सीट पर लिखाता
    मैट्रिक, इंटर क्लास के परीक्छा दियाता
    एगो जालन लिखे दुगो लागल जालन पीछे
    का कहीं.. का कहीं देशवा के हाल भईया कहलो ना जाता ?

    बहुत ही सुंदर

    ReplyDelete
  18. "सुगना फाऊंडेशन जोधपुर" "हिंदी ब्लॉगर्स फ़ोरम" "ब्लॉग की ख़बरें" और"आज का आगरा" ब्लॉग की तरफ से सभी मित्रो और पाठको को " "भगवान महावीर जयन्ति"" की बहुत बहुत शुभकामनाये !

    सवाई सिंह राजपुरोहित

    ReplyDelete
  19. बहुत सुन्दर ... का कहीं देशवा के हाल भईया कहलो ना जाता ? यी करे खातिर गाँव - नगर सभे तैयार बा ! फिर चिंता केकरा खातिर !.

    ReplyDelete
  20. बहुत अच्छी पोस्ट, शुभकामना, मैं सभी धर्मो को सम्मान देता हूँ, जिस तरह मुसलमान अपने धर्म के प्रति समर्पित है, उसी तरह हिन्दू भी समर्पित है. यदि समाज में प्रेम,आपसी सौहार्द और समरसता लानी है तो सभी के भावनाओ का सम्मान करना होगा.
    यहाँ भी आये. और अपने विचार अवश्य व्यक्त करें ताकि धार्मिक विवादों पर अंकुश लगाया जा सके.,
    मुस्लिम ब्लोगर यह बताएं क्या यह पोस्ट हिन्दुओ के भावनाओ पर कुठाराघात नहीं करती.

    ReplyDelete
  21. अच्छे है आपके विचार, ओरो के ब्लॉग को follow करके या कमेन्ट देकर उनका होसला बढाए ....

    ReplyDelete
  22. बहुत अच्छी पोस्ट है-- शिक्षा - प्रणाली की ऐसी दुर्गति अपने देश में ही सम्भव है ---क्या आबू आगे नही घूमना ?

    ReplyDelete
  23. महसूस लिखो ! महशुस नहीं !आशा है बुरा नही मानोगे ?

    ReplyDelete
  24. बहुत ही अच्छी कविता लिखी है आपने.... आकाश जी

    ReplyDelete

कृपया अपनी टिपण्णी जरुर दें| आपकी टिपण्णी से मुझे साहश और उत्साह मिलता है|