Akash

Akash

इस ब्लॉग की

कृप्या इस ब्लॉग की प्रविष्टियों को महसूस करें तथा अपना मंतब्य जरूर लिखें |

Wednesday, June 15, 2011

सवाल ? - आकाश सिंह

प्रिय साथियों मैं पिछले कुछ दिनों से ब्लोगिंग की दुनिया से बेखबर था इसके लिए आप सभी से माफ़ी चाहता हूँ| एक नई प्रस्तुति के साथ आकाश कुमार का प्यार भरा नमस्कार स्वीकार करें|
सवाल ?
दौलत के बाजार में नीलाम हुए लड़के,
बेटी वाले कैसे ख़रीदे भाव बहुत है बढे हुए ?
दस-बीस, साठ-सत्तर से लाखों पर आ पहुंचे हैं |
हाय कितने बेबस हैं वे जो खुद को बेच रहे हैं |
शायद उपर उठने का प्रयास कर रहे हैं |
तभी तो दुल्हन के रूप में खजाने की चाभी ढूंढ रहे हैं |
नहीं अब बिकेंगे नहीं अब खरीदेंगे...
हम पशु नही इन्सान हैं |

19 comments:

  1. आकाश जी बहुत दिन बाद आपकी कोई पोस्ट पढने को मिली है बहुत अच्छा लग रहा है.आपकी मम्मी कैसी है?आप का सवाल अच्छा है किन्तु इसका कोई फर्क आज के दहेज़ के बाज़ार में खड़े दुल्हों पर नहीं पड़ता है.

    ReplyDelete
  2. तभी तो दुल्हन के रूप में खजाने की चाभी ढूंढ रहे हैं |

    Sateek sachchi abhivykti....

    ReplyDelete
  3. आकाश भाई बहुत दिन बाद आपकी नई पोस्ट पढने को मिली है
    तभी तो दुल्हन के रूप में खजाने की चाभी ढूंढ रहे हैं |
    नहीं अब बिकेंगे नहीं अब खरीदेंगे...
    बिकुल शै कहा आपने
    अब दुल्हे भी बिकते है

    ReplyDelete
  4. दुल्हन अब तिजोरी कि चाबी हो गई है

    ReplyDelete
  5. काश हर लड़का आपकी तरह सोच पाता। हम इंसान हैं , पशु नहीं । बिकते तो पशु है और समान हैं।

    ReplyDelete
  6. bandhu,

    bahut sahi kaha hai
    ye purusho ki hi jimmedari hai ki is baat ko samjhen...

    esi hi ek rachna mere paas bhi hai lekin abhi blog par post 10-15 din baad karunga...

    likhna jaari rakhen...

    ReplyDelete
  7. काश ऐसी ही सबकी सोच बन सके ...

    ReplyDelete
  8. बहुत सही
    --------
    आपकी पोस्ट की हलचल यहाँ भी है -
    नयी-पुरानी हलचल

    ReplyDelete
  9. @ शालिनी कौशिक जी
    --- असर जरूर पड़ेगा...
    @ डॉ॰ मोनिका शर्मा जी
    --- उत्साहवर्धन के लिए धन्यवाद.....
    @ संजय भास्कर जी
    --- गंभीर मसला है.....
    @ Devendra K Sharma ji
    --- जारी रहेगा.....
    @ संगीता स्वरुप जी
    --- बूंद बूंद कर तलब भर ही जायेगा.....

    ReplyDelete
  10. इंसान पर लगाम लगनी चाहिए ! बहुत सुन्दर विचार !

    ReplyDelete
  11. आप जैसे युवा जब इस सोच को व्यापक करेंगे तो निश्चय ही दहेज़ रुपी दानव का अंत होगा...सच कहा आपने हम पशु नहीं इंसान हैं...मेरी बधाई स्वीकारें

    नीरज

    ReplyDelete
  12. akash i am sure that your would wife is the luckiest person of the world because your thinking is very good .how is your mother now ?best of luck .

    ReplyDelete
  13. बात तो सही है..पर इस विचार के साथ ये कटु सत्य जुड़ा है की वैचारिक समर्थन से हटकर निजी जीवन में उतरना कितना संभव हो प् रहा है वर्तमान परिवेश में??

    ReplyDelete
  14. I repeat
    आप जैसे युवा जब इस सोच को व्यापक करेंगे तो निश्चय ही दहेज़ रुपी दानव का अंत होगा...सच कहा आपने हम पशु नहीं इंसान हैं...मेरी बधाई स्वीकारें.

    ReplyDelete
  15. जी खुद के दृढ़ निश्चय से ही कुछ हो सकता है...

    आज की पढ़ी लिखी सभ्यता को इस विषय में भी ज्ञान देना अब भी बाकी है...

    ReplyDelete
  16. aakash ji ye aapki soch hai kintu aap un ladkon aur unke mata pita ki soch ka kya karoge jo apne par kiye gaye sare jeevan bhar ke kharch ko ladki vale se vasoolna chahte hain aur aise log hamare samaj me bahut hain .

    ReplyDelete
  17. nice way of thinking buddy
    tumhare jaise sabi sochne lage tho acha hota par nahi na dhaej lete hain jaada phir thode log tho mar jaathe hain unke haatho

    aur yeh ladaka ladkai ka differetiaiton bhi jaana hain kaha kaha nahi hain aaj kal ke ladakiya

    ReplyDelete
  18. Hi I really liked your blog.
    I own a website. Which is a global platform for all the artists, whether they are poets, writers, or painters etc.
    We publish the best Content, under the writers name.
    I really liked the quality of your content. and we would love to publish your content as well. All of your content would be published under your name, so that you can get all the credit for the content. For better understanding,
    You can Check the Hindi Corner of our website and the content shared by different writers and poets.

    http://www.catchmypost.com

    and kindly reply on ojaswi_kaushal@catchmypost.com

    ReplyDelete
  19. प्रिय आकाश जी मैंने आपका रचना पढ़ा पढ़ कर मेरे दिल में ख्याल आया की आज के दुनिया में भी कुछ लोग बचे है जो मेरी तरह सोचते है आपका बिचार अन्ना ही तरह देश में क्रांति ला सकती है आप अपने ब्लॉग पर हमेशा लिखते रहियेगा जिस्शे देश में दहेज के प्रति ख्याल ख़त्म हो जाये

    जये हिंद

    ReplyDelete

कृपया अपनी टिपण्णी जरुर दें| आपकी टिपण्णी से मुझे साहश और उत्साह मिलता है|